1 March 2018

Lyrics of one of best song by Lata Mangeshkar & Madan Mohan : Aap Ki Nazro Ne Samjha, Pyar Ke Kabil Mujhe

Aapki Nazro Ne Samjha, Pyar Ke Kabil Mujhe (आपकी नज़रों ने समझा, प्यार के काबिल मुझे)


This is going to be the first post on this blog about lyrics of hindi film songs. As I am just starting out, it will be a quick post. I have chosen the song "Aapki Nazro Ne Samjha, Pyar Ke Kabil Mujhe"  (आपकी नज़रों ने समझा, प्यार के काबिल मुझे) to start this blog for no particular reason except it's one of my most favorite song. Hope everyone will enjoy it as much as I do.

This song is from 1962 movie "Anpadh" starring Dharmendra, Mala Sinha in lead role. The music of the film was composed by Madan Mohan and all the songs were penned by Raja Mehdi Ali Khan. This song was sung by Lata Mangeshkar and is considered to be the best song which Lata Mangeshkar sung for Madan Mohan. This song appeared at 4th place in Binaca Geetmala Anuual Program for the year 1962.



Lyrics of "Aapki Nazro Ne Samjha, Pyar Ke Kabil Mujhe"

aapki nazro ne samjha, pyar ke kabil mujhe
dil ki ae dhadkan thaher ja, mil gayi manzil mujhe
aapki nazro ne samjha

ji hame manzoor hai, aapka ye faisla
ji hame manzoor hai, aapka ye faisla
kah rahi hai har nazar, banda-parvar shukriya
hanske apni zindagi me, kar liya shamil mujhe
dil ki ae dhadkan thaher ja, mil gayi manzil mujhe
aapki nazro ne samjha

aapki manzil hun mai, meri manzil aap hai
aapki manzil hun mai, meri manzil aap hai
kyon mai toofa se daru, mera sahil aap hai
koi tufano se kah de, mil gaya sahil mujhe
dil ki ae dhadkan thaher ja, mil gayi manzil mujhe
aapki nazro ne samjha

pad gai dil par mere, aapki parchhaiya
pad gai dil par mere, aapki parchhaiya
har taraf bajne lagi, saikdo shahnaiyaa
do jahaa ki aaj khushiyan, ho gayi haasil mujhe
aapki nazro ne samjha, pyar ke kabil mujhe
dil ki ae dhadkan thaher ja, mil gayi manzil mujhe
aapki nazro ne samjha


Lyrics in Hindi (Unicode) of "आपकी नज़रों ने समझा, प्यार के काबिल मुझे"

आप की नज़रों ने समझा, प्यार के काबिल मुझे
दिल की ऐ धड़कन ठहर जा, मिल गई मंज़िल मुझे
आप की नज़रों ने समझा

जी हमें मंज़ूर है, आपका ये फ़ैसला
जी हमें मंज़ूर है, आपका ये फ़ैसला
कह रही है हर नज़र, बंदा-परवर शुकरिया
हँसके अपनी ज़िंदगी में, कर लिया शामिल मुझे
दिल की ऐ धड़कन ठहर जा, मिल गई मंज़िल मुझे
आप की नज़रों ने समझा

आप की मंज़िल हूँ मैं, मेरी मंज़िल आप हैं
आप की मंज़िल हूँ मैं, मेरी मंज़िल आप हैं 
क्यूँ मैं तूफ़ान से डरूँ, मेरा  साहिल आप हैं
कोई तूफ़ानों से कह दे, मिल गया साहिल मुझे
दिल की ऐ धड़कन ठहर जा, मिल गई मंज़िल मुझे
आप की नज़रों ने समझा

पड़ गई दिल पर मेरे, आप की पर्छाइयाँ
पड़ गई दिल पर मेरे, आप की पर्छाइयाँ
हर तरफ़ बजने लगीं सैकड़ों शहनाइयाँ
दो जहाँ की आज खुशियाँ हो गईं हासिल मुझे
आप की नज़रों ने समझा, प्यार के काबिल मुझे
दिल की ऐ धड़कन ठहर जा, मिल गई मंज़िल मुझे
आप की नज़रों ने समझा




1 comment:

  1. The word "शुकरिया" should be "शुक्रिया" even though Lata pronounces it as shukariya. It is the adjustment of singing meter, which has made it necessary to be pronounced it that way

    ReplyDelete