31 March 2015

Lyrics Of "Tum Bhi Tanha The Hum Bhi Tanha The" From Aftab Shivdasani's Movie - 1920 Evil Returns (2012)

Tum Bhi Tanha The Hum Bhi Tanha The
Tum Bhi Tanha The Hum Bhi Tanha The
Lyrics Of Tum Bhi Tanha The Hum Bhi Tanha The From 1920 Evil Returns (2012):  A Love song sung by Mahalakshmi Iyer Featuring Aftab Shivdasani, Tia Bajpai and Vidya Malvade.

Singer: Mahalakshmi Iyer
Music: Chirantan Bhatt
Lyrics: Shakeel Azmi
Star Cast:
Aftab Shivdasani, Tia Bajpai, Vidya Malvade.






The video of this song is available on youtube at the official channel T-Series. This video is of 2 minutes 11 seconds duration.





Lyrics of "Tum Bhi Tanha The Hum Bhi Tanha The "


tum bhi tanha the hum bhi tanha the milke rone lage
tum bhi tanha the hum bhi tanha the milke rone lage
ek jaise the dono ke gum dawa hone lage
tujhme muskurate hai, tujhme gungunate hai
khudko tere paas hi chhod aate hai
tere hi khyalo me dube dube jaate hai
khudko tere paas hi chhod aate hai

thode bhare hai hum, thode se khali hai
tum bhi ho uljhe se, hum bhi sawali hai
kuch tum bhi kore ho kuch hum bhi saare hai
ek aasmaan par hum do chand aadhe hai
kam hai jami bhi thodi kam aasmaan hai
lagta adhura tum bin har jahaan
apni har kami me hum ab tujhe hi paate hai
khudko tere paas hi chhod aate hai
jitni ye viraani hai tujhse hi sajaate hai
khudko tere paas hi chhod aate hai

do raaz milte hai humraaj bante hai
sannaate aise hi aawaaz bante hai
khamoshi me teri meri sadaaye hai
meri hatheli me teri duaaye hai
ik saath tera ho toh ssu manjile ho
tanhayi teri meri mahfile ho
hum teri nigaaho se khud me jhilmilate hai
khudko tere paas hi chhod aate hai
tujhse apni raato ko subah banaate hai
khudko tere paas hi chhod aate hai


Lyrics in Hindi (Unicode) of "तुम भी तनहा थे हम भी तनहा थे"


तुम ही तनहा थे हम भी तनहा थे, मिल के रोने लगे
तुम ही तनहा थे हम भी तनहा थे, मिल के रोने लगे
एक जैसे थे दोनों के गम, दवा होने लगे
तुझमे मुस्कुराते है, तुझमे गुनगुनाते हैं
खुद को तेरे पास ही छोड़ आते हैं
तेरे ही ख्यालो में दुबे दुबे जाते हैं
खुद को तेरे पास ही छोड़ आते है

थोड़े भरे है हम थोड़े से खालो हैं
तुम भी हो उलझे से हम भी सवाली हैं
कुछ तुम भी कोरे हो कुछ हम भी सारे हैं
एक आसमान पार हम दो चाँद आधे है
कम है जमी भी थोड़ी कम आसमान है
लगता अधुरा तुम बिन हर जगह
अपनी हर कमी पे हम अब तुझे ही पाते हैं
खुद को तेरे पास ही छोड़ आते हैं
जितनी है वीरानी है तुझसे ही सजाते है
खुद को तेरे पास ही छोड़ आते हैं

दो राज़ मिलते है हमराज़ बनते है
सन्नाटे ऐसे ही आवाज़ बनते हैं
ख़ामोशी में तेरी मेरी सदाए हैं
मेरी हथेली में तेरी दुआएं हैं
इक साथ तेरा हो तो सो मंजिले हों
तनहाई तेरी मेरी महफ़िले हो
हम तेरी निगाहों से खुद में झिलमिलाते हैं
खुद को तेरे पास ही छोड़ आते है
तुझसे अपनी रातों को सुबह बनाते हैं
खुद को तेरे पास ही छोड़ आते है

5 comments: