28 May 2015

Lyrics Of "Kyun Main Jaagoon" From Akshay Kumar's Movie - Patiala House (2011)

Kyun Main Jaagoon
Kyun Main Jaagoon
Lyrics Of Kyun Main Jaagoon From Movie - Patiala House (2011):  A Sad Song sung by Shafqat Amanat Ali Featuring Akshay Kumar.

Singer: Shafqat Amanat Ali
Music: Shankar Ehsaan Loy
Lyrics: Anvita Dutt Guptan
Star Cast: Akshay Kumar, Anushka Sharma, Rishi Kapoor, Dimple Kapadia, Armaan Kirmani





The Video of this song is available on youtube at the official channel T-Series. The Video is of 4 minutes and 55 seconds duration.





Lyrics of "Kyun Main Jaagoon"


mujhe yuhi karke khwaabo se judaa
jane kaha chhupke baitha hai khuda
janu na main kab hua khudse gumshuda
kaise jiyu rooh bhi mujhse hai juda
kyu meri raahe, mujhse puche ghar kaha hai
kyu mujhse aake, dastak puche dar kaha hai
rahe aisi jinki manzil hi nahi
dhoondo mujhe ab main rehta hu wahi
dil hai kahi aur dhadkan hai kahi
saanse hai magar kyu zinda main nahi

ret bani haatho se yu beh gayi
taqdeer meri bikhri har jagah
kaise likhu phir se nayi daastan
gham ki syaahi dikhti hai kaha
aahe jo chuni hai meri thi razaa
rehta hu kyu phir khudse hi khafa
aise bhi hui thi mujhse kya khata
tune jo mujhe di jeene ki sazaa

bande tere mathe pe hai jo khiche
bas chand laqeero jitna hai jahaan
aansu mere mujhko mita keh rahe
rabb ka hukum na mitta hai yaha
rahe aisi jinki manzil hi nahi
dhundho mujhe ab mai rehta hu wahi
dil hai kahi aur dhadkan hai kahi
saanse hai magar kyu zinda main nahi
kyu main jaagu aur woh sapne bo raha hai
kyu mera rab yu aankhe khole so raha hai, kyu main jagu

Lyrics in Hindi (Unicode) of "क्यु मैं जागूँ"


मुझे युही करके ख्वाबो से जुदा
जाने कहा छुपके बैठा है खुदा
जानू ना मैं कब हुआ खुद से गुमशुदा
कैसे जीयु रूह भी मुझसे है जुदा
क्यू मेरी राहे, मुझसे पूछे घर कहा है
क्यू मुझसे आके, दस्तक पूछे दर कहा है
राहे ऐसी जिनकी मंजिल ही नहीं
दूँढो मुझे अब मैं रहता हूँ वही
दिल है कही और धड़कन है कही
सांसे है मगर क्यू जिन्दा मैं नहीं

रेत बनी हाथो से यु बह गयी
तकदीर मेरी बिखरी हर जगह
कैसे लिखू फिर से नयी दास्तान
ग़म की स्याही दिखती हैं कहा
आहे जो चुनी हैं मेरी थी रजा
रहता हु क्यू फिर खुद से ही खफा
ऐसे भी हुई थी मुझसे क्या खता
तूने जो मुझे दी जीने की सजा

बन्दे तेरे माथे पे है जो खींचे
बस चदं लकीरों जितना है जहाँ
आंशु मेरे मुझको मिटा कह रहे
रब्ब का हुकुम ना मिटता है यहा
राहे ऐसी जिनकी मंजिल ही नहीं
दूँढो मुझे अब मैं रहता हु वही
दिल है कही और धड़कन हैं कही
सांसे हैं मगर क्यू जिन्दा मैं नहीं
क्यों मैं जागु और वो सपने बो रहा हैं
क्यों मेरा रब यु आँखे खोले सो रहा है, क्यों मैं जागु

No comments:

Post a Comment