18 February 2016

Lyrics Of "Tumhe Dillagi Bhool Jani Padegi" From Mtv Unplugged 5 - Episode 06 (2016)

Tumhe Dillagi Bhool Jani Padegi
Tumhe Dillagi Bhool Jani Padegi
A traditional qawwali sung by Rahat Fateh Ali Khan featuring him in song video.

Singer: Rahat Fateh Ali Khan
Music: Traditional
Lyrics: Traditional
Features: Rahat Fateh Ali Khan.







The video of this song is available on YouTube at the official channel  MTV Unplugged. This video is of 12 minutes 48 seconds duration.

Lyrics of "Tumhe Dillagi Bhool Jani Padegi"


maine maasum baharo me tumhe dekha hai
maine maasum baharo me tumhe dekha hai
maine purnur sitaro me tumhe dekha hai
mere mehboob teri parda-nashini ki kasam
maine ashko ki kataro me tumhe dekha hai
maine ashko ki kataro me tumhe dekha hai
koi hase to tujhe gham lage, hasi na lage
ke dillagi bhi tere dil ko dillagi na lage
tu roz roya kare uthke chand raato me
khuda kare tera mere bagair ji na lage

tumhe dillagi bhul jani padegi
tumhe dillagi bhul jani padegi
mohabbat ki raaho me aakar to dekho
tumhe dillagi bhul jani padegi
mohabbat ki raaho me aakar to dekho
tumhe dillagi bhul jani padegi
mohabbat ki raaho me aakar to dekho
tumhe dillagi bhul jani padegi
mohabbat ki raaho me aakar to dekho
tumhe dillagi bhul jani padegi
mohabbat ki raaho me aakar to dekho
tumhe dillagi bhul jani padegi
tumhe dillagi bhul jani padegi
dillagi bhul jani padegi tumhe dillagi
dillagi bhul jani padegi tumhe dillagi
dillagi bhul jani padegi tumhe dillagi
kuch khel nahi hai ishq ki ee laag
kuch khel nahi hai ishq ki ee laag
paani na samajhiye, aag hai aag
dillagi bhul jani padegi tumhe dillagi
dillagi bhul jani padegi tumhe dillagi
dillagi bhul jani padegi tumhe dillagi

dillagi bhul jani padegi tumhe dillagi
dillagi bhul jani padegi tumhe dillagi
bhul jani padegi tumhe dillagi bhul jani padegi
mohabbat ki raaho me aakar to dekho
mohabbat ki raaho me aakar to dekho
tadapne pe mere na phir tum hasoge
tadapne pe mere na phir tum hasoge
kabhi dil kisi se laga kar to dekho
tadapne pe mere na phir tum hasoge
kabhi dil kisi se laga kar to dekho

khuda ke liye chhod do ab yeh parda
khuda ke liye chhod do ab yeh parda
rukh se nakaab utha
rukh se nakaab utha ke badi der ho gayi
rukh se nakaab utha ke badi der ho gayi
rukh se nakaab
rukh se nakaab utha ke badi der ho gayi
maulko talaawat kur-aa kiye huye

khuda ke liye chhod do ab yeh parda
khuda ke liye chhod do ab yeh parda
khuda ke liye chhod do ab yeh parda
khuda ke liye chhod do ab yeh parda
ke hain aaj hum tum nahi gair koi
ke hain aaj hum tum nahi gair koi
shab-e-vasl bhi hai hijaab iss kadar kyu
shab-e-vasl bhi hai hijaab iss kadar kyu
zara rukh se aanchal hata kar to dekho
shab-e-vasl bhi hai hijaab iss kadar kyu
zara rukh se aanchal hata kar to dekho
tumhe dillagi bhul jani padegi
mohabbat ki raaho me aakar to dekho


Lyrics in Hindi (Unicode) of "तुम्हे दिललगी भूल जानी पड़ेगी"


मैंने मासूम बहारो में तुम्हे देखा हैं
मैंने मासूम बहारो में तुम्हे देखा हैं
मैंने पुरनूर सितारों में तुम्हे देखा हैं
मेरे महबूब तेरी पर्दा-नशीनी की कसम
मैंने अश्को की कतारों मे तुम्हे देखा हैं
मैंने अश्को की कतारों मे तुम्हे देखा हैं
कोई हसे तो तुझे ग़म लगे, हसी ना लगे
के दिललगी भी तेरे दिल को दिललगी ना लगे
तू रोज़ रोया करे उठके चंद रातों में
खुदा करे तेरा मेरे बगैर जी ना लगे

तुम्हे दिललगी भूल जानी पड़ेगी
तुम्हे दिललगी भूल जानी पड़ेगी
मोहब्बत की राहो में आकर तो देखो
तुम्हे दिललगी भूल जानी पड़ेगी
मोहब्बत की राहो में आकर तो देखो
तुम्हे दिललगी भूल जानी पड़ेगी
मोहब्बत की राहो में आकर तो देखो
तुम्हे दिललगी भूल जानी पड़ेगी
मोहब्बत की राहो में आकर तो देखो
तुम्हे दिललगी भूल जानी पड़ेगी
मोहब्बत की राहो में आकर तो देखो
तुम्हे दिललगी भूल जानी पड़ेगी
तुम्हे दिललगी भूल जानी पड़ेगी
दिललगी भूल जानी पड़ेगी तुम्हे दिललगी
दिललगी भूल जानी पड़ेगी तुम्हे दिललगी
दिललगी भूल जानी पड़ेगी तुम्हे दिललगी
कुछ खेल नहीं हैं इश्क की ई आग
कुछ खेल नहीं हैं इश्क की ई आग
पानी ना समझिये, आग हैं आग
दिललगी भूल जानी पड़ेगी तुम्हे दिललगी
दिललगी भूल जानी पड़ेगी तुम्हे दिललगी
दिललगी भूल जानी पड़ेगी तुम्हे दिललगी

दिललगी भूल जानी पड़ेगी तुम्हे दिललगी
दिललगी भूल जानी पड़ेगी तुम्हे दिललगी
भूल जानी पड़ेगी तुम्हे दिललगी भूल जानी पड़ेगी
मोहब्बत की राहो में आकर तो देखो
मोहब्बत की राहो में आकर तो देखो
तड़पने पे मेरे ना फिर तुम हसोगे
तड़पने पे मेरे ना फिर तुम हसोगे
कभी दिल किसी से लगा कर तो देखो
तड़पने पे मेरे ना फिर तुम हसोगे
कभी दिल किसी से लगा कर तो देखो

खुदा के लिए छोड़ दो अब ये परदा
खुदा के लिए छोड़ दो अब ये परदा
रुख से नकाब उठा
रुख से नकाब उठा के बड़ी देर हो गई
रुख से नकाब उठा के बड़ी देर हो गई
रुख से नकाब उठा
रुख से नकाब उठा के बड़ी देर हो गई
मौलको तलावत कुर-आ किये हुए

खुदा के लिए छोड़ दो अब ये परदा
खुदा के लिए छोड़ दो अब ये परदा
खुदा के लिए छोड़ दो अब ये परदा
खुदा के लिए छोड़ दो अब ये परदा
के हैं आज हम तुम नहीं गैर कोई
के हैं आज हम तुम नहीं गैर कोई
शब-ए-वस्ल भी हैं हिजाब इस कदर क्यूँ
शब-ए-वस्ल भी हैं हिजाब इस कदर क्यूँ
ज़रा रुख से आँचल हटा कर तो देखो
शब-ए-वस्ल भी हैं हिजाब इस कदर क्यूँ
ज़रा रुख से आँचल हटा कर तो देखो
तुम्हे दिललगी भूल जानी पड़ेगी
मोहब्बत की राहो में आकर तो देखो

No comments:

Post a Comment