15 July 2016

Lyrics Of "Chand Roj" From Latest Movie - Buddha In A Traffic Jam (2016)

Chand Roj
Chand Roj
A ghazal sung by Pallavi Joshi starring Arunoday Singh and Mahie Gill.

Singer: Pallavi Joshi
Music: Rohit Sharma
Lyrics: Faiz Ahmad Faiz
Star Cast: Anupam Kher, Arunoday Singh, Mahie Gill, Anchal Dwivedi, Pallavi Joshi, Gopal K. Singh, Indal Singh, Asif Basra, Jayant Kripalani.





The video of this song is available on YouTube at the channel I Am Buddha. This video is of 2 minutes 52 seconds duration.

Lyrics of "Chand Roj"


chand roz aur meri jaan fakat chand hi roz
julm ki chhav me dum lene pe majhbur hai hum
ek jara aur sitam seh le, tadap le role
apne ajdad ki miras hai, mazur hai
chand roz aur meri jaan fakat chand hi roz

jism par kaid hai, jazbat pe janjire hai
fikr mahbus hai, guftar pe tazire hai
aur apni himmat hai ki hum fir bhi jeeye jate hai
zindagi kya kisi muflis ki kaba hai
jisme har ghadi dard ke pehband lage jate hai
chand roz aur meri jaan fakat chand hi roz

lekin ab julm ki miyad ke din thode hai
ik jara sabr ke faryad ke din thode hai
arsa ye dehar ki jhulsi hui virani me
humko rehna hai par yuhi to nahi rehna hai
ajnabi haatho ka benam karabar sitam
aaj sehna hai hamesha to nahi sehna
chand roz aur meri jaan fakat chand hi roz

ye teri husn se lipti hui alam ki gard
apni do roj jawani ki shiksto ka shumar
chandni raato ka bekar dhehakta hua dard
dil ki besud tadap jism ki maayus pukar
chand roz aur meri jaan fakat chand hi roz
chand roz aur meri jaan fakat chand hi roz


Lyrics in Hindi (Unicode) of "चंद रोज़"


चंद रोज़ और मेरी जान फकत चंद ही रोज़
जुल्म की छाव में दम लेने पे मजबूर है हम
एक जरा और सितम सह ले, तड़प ले रोले
अपने अजदाद की मीरास है, माजूर है
चंद रोज़ और मेरी जान फकत चंद ही रोज़

जिस्म पर कैद है, जज्बात पे जंजीरे है
फ़िक्र महबूस है, गुफ्तार पे ताज़िरे है
और अपनी हिम्मत है की हम फिर भी जीए जाते है
ज़िन्दगी क्या किसी मुफलिस की कबा है
जिसमे हर घडी दर्द के पह्बंद लगे जाते है
चंद रोज़ और मेरी जान फकत चंद ही रोज़

लेकिन अब जुल्म की मियाद के दिन थोड़े है
इक जरा सब्र के फरयाद के दिन थोड़े है
अरसा ये देहर की झुलसी हुई वीरानी में
हमको रहना है पर युही तो नहीं रहना है
अजनबी हाथो का बेनाम कारबार सितम
आज सहना है हमेशा तो नहीं सहना
चंद रोज़ और मेरी जान फकत चंद ही रोज़

ये तेरी हुस्न से लिपटी हुई आलम की गर्द
अपनी दो रोज जवानी की शिकस्तो का शुमार
चाँदनी रातो का बेकार धेहकता हुआ दर्द
दिल की बेसुद तड़प जिस्म की मायूस पुकार
चंद रोज़ और मेरी जान फकत चंद ही रोज़
चंद रोज़ और मेरी जान फकत चंद ही रोज़

No comments:

Post a Comment