9 September 2016

Lyrics Of "Waqtey Fursat (Female)" From Latest Movie - My Father Iqbal (2016)

Waqtey Fursat (Female)
Waqtey Fursat (Female)
Beautiful ghazal sung by Anamika Chowdhary and music composed by Biswajit Bhattacharjee.

Singer: Anamika Chowdhary
Music: Biswajit Bhattacharjee
Lyrics: Krishna Bhardwaj
Star Cast: Narendra Jha, Komal Thakker, Paresh Mehta, Raj Sharma, Amit Lakhani, Sagar Nath Jha.






Lyrics of "Waqtey Fursat (Female)""


waade muddat ki mukammal yeh aarzu hogi
waade muddat ki mukammal yeh aarzu hogi
gulo ke saaye honge aur zindagi rubaru hogi
gulo ke saaye honge aur zindagi rubaru hogi

aalam-e-wasl me khamosh honge, labb shikayati
aalam-e-wasl me khamosh honge, labb shikayati
aankho aankho me saari ishq ki guftagu hogi
aankho aankho me saari ishq ki guftagu hogi
waade muddat ki mukammal yeh aarzu hogi

ata ki zindagi toh jeene ke lamhe bhi deta
ata ki zindagi toh jeene ke lamhe bhi deta
milungi jab bhi main, rab se shikayat hubahu hogi
milungi jab bhi main, rab se shikayat hubahu hogi
waade muddat ki mukammal yeh aarzu hogi

bhale taa-umr khud se ajnabi si main rahi hu
bhale taa-umr khud se ajnabi si main rahi hu
magar mujhko yakeen hai, charcha meri khud-ba-khud hogi
magar mujhko yakeen hai, charcha meri khud-ba-khud hogi
waade muddat ki mukammal yeh aarzu hogi
gulo ke saaye honge aur zindagi rubaru hogi
gulo ke saaye honge aur zindagi rubaru hogi


Lyrics in Hindi (Unicode) of "वक्ते फुरसत (फीमेल)"


वादे मुद्दत की मुकम्मल ये आरज़ू होगी
वादे मुद्दत की मुकम्मल ये आरज़ू होगी
गुलो के साए होंगे और ज़िन्दगी रूबरू होगी
गुलो के साए होंगे और ज़िन्दगी रूबरू होगी

आलम-ए-वस्ल में खामोश होंगे, लब शिकायती
आलम-ए-वस्ल में खामोश होंगे, लब शिकायती
आँखों आँखों में सारी इश्क की गुफ्तगू होगी
आँखों आँखों में सारी इश्क की गुफ्तगू होगी
वादे मुद्दत की मुकम्मल ये आरज़ू होगी

अता की ज़िन्दगी तो जीने के लम्हे भी देता
अता की ज़िन्दगी तो जीने के लम्हे भी देता
मिलूंगी जब भी मैं, रब से शिकायत हुबहू होगी
मिलूंगी जब भी मैं, रब से शिकायत हुबहू होगी
वादे मुद्दत की मुकम्मल ये आरज़ू होगी

भले ता-उम्र खुद से अजनबी सी मैं रही हूँ
भले ता-उम्र खुद से अजनबी सी मैं रही हूँ
मगर मुझको यकीं हैं, चर्चा मेरी खुद-बा-खुद होगी
मगर मुझको यकीं हैं, चर्चा मेरी खुद-बा-खुद होगी
वादे मुद्दत की मुकम्मल ये आरज़ू होगी
गुलो के साए होंगे और ज़िन्दगी रूबरू होगी
गुलो के साए होंगे और ज़िन्दगी रूबरू होगी

No comments:

Post a Comment